​ध्यान लक्ष्य पर रखो, सफलता मुट्ठी में होगी।

Write by: Chandan Jat | 15 June 17
सफ़र भले कितना ही कठीन क्यों न हो, ध्यान हमेशा लक्ष्य पर रखोगे तो, सब कुछ आसान लगने लग जायेगा।

कुछ पाने की चाहत रखने से अच्छा है, कुछ कार्य करना तब तक निरन्तर करते ही रहना जब तक लक्ष्य दिखाई ना दे। और जैसे ही अपना लक्ष्य दिखाई देने लग जाये वैसे ही अपना सारा ध्यान लक्ष्य पर लगा दे सारी राहें आसान लगने लग जायेगी। जल्दी सफल होना है तो ध्यान हमेशा लक्ष्य पर ही रखे, जो भी कठिनाई आये डटकर मुकाबला करे व सफल होने की ख़ुशी मनाने के लिए तेयार रहै।

जीवन में हज़ारों कठिनाईया आयेगी सामने दिखने वाली कठीनाईयो से डरकर रूक गये तब भी कठीनाईया कम नही होगी। हर कठीनाई को सुनाती माने व स्वीकार करे, जितना जल्दी हो सके हल निकाले। कभी कभी दुर से दिखने पर बड़ी लग सकती है, लेकीन क़रीब आने पर ज़्यादातर बड़ी दिखने वाली कठीनाईया छोटी ही होती है। कैसी भी परीस्थिती क्यों न हो हमेशा हिम्मत के साथ आगे आकर उस परीस्थिती का मुक़ाबला करे। मुश्किल से मुश्किल लगने वाला कार्य आसानी से हो जायेगा।
गाड़ी जब स्टार्ट होती है पेट्रोल भी ज़्यादा खाती है और आवाज़ भी ज़्यादा करती है व ऊपर से धीरे भी चलती है, लेकीन जब पहले गीयर से दुसरे, दुसरे से तीसरे गीयर में आती है तब सब कुछ उलटा होने लगता है, अब गाड़ी आवाज़ भी ज़्यादा नही करेगी, तेज़ भी दोडेगी व पेन्ट्रोल भी कम खायेगी। जिवन भी ठिक इसी तरह है, जब कोई नया नया व्यापार स्टार्ट करता है तो इन्कम कम होती है, नोलेज कम होता है, इसलिए भागदौड़ ज़्यादा होगी, कई प्रकार के छोटे छोटे काम भी ज़्यादा होगे, और कई प्रकार के छोटे मोटे ख़र्चे भी ज़्यादा होगे लेकीन जैसे जैसे वक़्त गुज़रेगा तो नोलेज भी बढ़ेगा व इन्कम भी बढ़ेगी, अब आपके पास समय भी ज़्यादा होगा और सम्भावनाए भी ज़्यादा होगी।
इसलिए ध्यान हमेशा लक्ष्य पर रखने का मतलब है, आपके साथ में हो सकने वाली घटनाओं से वाक़िफ़ रहना वह सीधा निशाना लगाना॥